सीबीआई अदालत ने चिदंबरम को भेजा पुलिस हिरासत में

आईएनएक्स मीडिया मामले में गुरुवार को हुई सुनवाई के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सीबीआई अदालत ने 26 अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है.

सीबीआई ने अदालत से पांच दिन के लिए चिदंबरम को रिमांड पर मांगा था. इस बीच चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने अपनी दलील देते हुए जमानत मांगी थी. लेकिन सीबीआई अदालत ने चिदंबरम की दलील नहीं सुनी और उन्हें हिरासत में भेज दिया.

इससे पहले केंद्रीय जांच एजेंसी यानी सीबीआई ने चिदंबरम को बड़े नाटकीय तरीके से बुधवार की रात गिरफ्तार कर लिया था. फिलहाल उन्हें दिल्ली के लोदी कॉलोनी स्थित सीबीआई मुख्यालय में रखा गया है.

मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार सीबीआई अधिकारियों ने चिदंबरम से रात में ही पूछताछ शुरू कर दी थी. रात को उनसे डिनर के लिए भी पूछा गया, लेकिन उन्होंने कुछ भी नहीं खाया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चिदंबरम ने हवालात में जाने से इनकार कर दिया. उनका कहना था कि उन्हें रात को अकेले में डर लगता है. जिसके बाद वह सीबीआई अधिकारी के ही कमरे में रुके रहे.

आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार किए गए चिदंबरम को लेकर उनकी पार्टी कांग्रेस उनके बचाव में उतर आई है. कांग्रेस ने एक प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर आरोप लगाए हैं. कांग्रेस की तरफ से बोलते हुए रणदीप सिंह सूरजेवाला ने कहा कि आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है. उनके खिलाफ बदले की भावना से कार्रवाई की जा रही है.

कांग्रेस का कहना है कि सरकार लोगों का जरूरी मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है. कांग्रेस का कहना है कि केंद्र सरकार दिन-दहाड़े लोकतंत्र की हत्या कर रही है.

उधर कार्ति चिदंबरम ने अपने पिता की गिरफ्तारी को राजनीति से प्रेरित बताया है. चेन्नई में पत्रकारों से बात करते हुए कार्ति ने कहा कि कुछ खास लोगों को खुश करने के लिए उनके पिता को गिरफ्तार किया गया है.

कार्ति चिदंबरम ने कहा, “ये पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित मामला है. ये साल 2008 का मामला है जिस पर 2017 में एफआईआर दर्ज की गई थी. इस मामले में खुद मुझ पर सीबीआई ने चार बार छापा मारा था. मैं एजेंसियों के सामने 20 बार पेश हो चुका हूं और हर बार कम से कम 10 घंटे तक मुझ से पूछताछ हुई थी. मैं सीबीआई के पास 11 दिनों तक रहा था.”

चिदंबरम की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने एक वीडियो ट्वीट किया जिसमें अप्रैल 2019 में नरेंद्र मोदी एक चुनावी रैली के दौरान कह रहे थे कि ”जिन्होंने देश को लूटा है, उनको पाई-पाई लौटानी पड़ेगी.”

उसी वीडियो में मोदी कह रहे हैं कि वो कैसे उन कथित भ्रष्ट लोगों को जेल के दरवाजे तक ले आए हैं और अगर उन्हें एक और मौका मिले तो ये सब लोग जेल में होंगे.

सीबीआई चिदंबरम को 14 दिनों की रिमांड पर मांग सकती है. चिदंबरम के वकीलों को भी उनकी जमानत के लिए अब उसी कोर्ट में अर्जी डालनी होगी. अगर यहां से जमानत याचिका खारिज होती है तो उन्हें उच्च अदालत का रुख करना होगा.

शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here