नौकरी ढूंढ़ रहे युवाओं को पान की दुकान खोलने को कह रहें है त्रिपुरा सीएम!

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब लगातार अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा में बने हुए हैं. अब एक फिर से उन्होंने ऐसा बयान दिया है, जिससे बखेड़ा खड़ा हो सकता है.

दरअसल एक कार्यक्रम के दौरान त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने कहा कि राज्य के युवा सरकारी नौकरी पाने के लिए सालों तक राजनैतिक पार्टियों के पीछे भागते रहे और अपने जीवन के इतने साल बर्बाद कर दिए. अगर यही युवा इस दौरान पान की एक दुकान खोल लेते तो उनके बैंक बैलेंस में 5 लाख रुपए होते.

त्रिपुरा के सीएम ने ये बातें त्रिपुरा वेटरनरी काउंसिल के एक कार्यक्रम के दौरान कहीं.

बिप्लब देब ने राज्य के युवाओं को स्व-रोजगार के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि पीएम मोदी की मुद्रा योजना के तहत सरकार युवाओं को बैंक लोन की सुविधा दे रही है, जिससे वह कोई रोजगार कर सम्मानित जिंदगी जी सकते हैं. देब ने आगे कहा कि एक बेरोजगार युवा बैंक से 75000 तक का लोन ले सकता है और थोड़ा खुद से कोशिश कर आराम से महीने के 25000 रुपए तक कमा सकता है.

लेकिन त्रिपुरा के लोगों में पिछले 25 सालों में एक सोच पैदा हो गई है कि स्नातक युवा अगर खेती करेगा, पॉल्ट्री स्टार्ट करेगा तो इससे उसकी क्लास नीची हो जाएगी जो कि गलत है.

इससे पहले बिप्लब देब ने कहा है कि सिविल सेवा की परीक्षा देने के लिए मैकेनिकल इंजीनियरों के मुकाबले सिविल इंजीनियर बेहतर होते हैं और उन्हें ही यह परीक्षा देनी चाहिए.

दरअसल त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब सिविल सेवा दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा, ‘पहले के वक्त में मानविकी विषय के छात्र ही अधिकतर सिविल सेवा की परीक्षा देते थे, लेकिन अब यह ट्रेंड बदल गया है. अब डॉक्टर, इंजीनियर यह परीक्षा देने लगे हैं.’

‘मेरे विचार से जो लोग मैकेनिकल इंजीनियरिंग से आते हैं उन्हें यह परीक्षा नहीं देनी चाहिए, सिविल इंजीनियरों को प्रशासन और समाज की बेहतर समझ होती है.’

सोशल मीडिया पर बिप्लब देव के बयान पर खूब प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. मलयालम लेखक एनएस माधवन ने लिखा है, ‘जब मोदी ने त्रिपुरा के लोगों से कहा था कि वे उन्हें हीरा देने वाले हैं, तो उन्होंने कल्पना नहीं की होगी कि यह इतना अद्भुत होगा.’

बिप्लब देब ने कुछ दिन पहले डायना हेडन पर भी विवादित बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि भारतीय महिलाओं की ख़ूबसूरती की नुमाइंदगी ऐश्वर्या राय करती हैं ना कि डायना हेडन. हालांकि अब उन्होंने अपने इस बयान पर खेद जताया है और कहा है कि वे सभी महिलाओं का सम्मान करते हैं.

इससे पहले, बिप्लब देब इंटरनेट पर दिए गए बयान को लेकर सुर्खियों में थे. उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि महाभारत के जमाने में भी इंटरनेट का इस्तेमाल होता था, जिसके बाद सोशल मीडिया पर बिप्लब देब की खूब आलोचना हुई थी.

शेयर करें
  • 3
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here