चंद्रबाबू के दोनों मंत्रियों का मोदी सरकार से इस्तिफा

तेलगू देशम पार्टी के प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार रात को एक प्रेस कांफ्रेस कर भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली केंद्र की एनडीए सरकार से अलग होने का ऐलान कर दिया है.

एनडीए से अलग होने का ऐलान करते हुए नायडू ने कहा  कि यह हमारा अधिकार है. केंद्र ने हमसे किया वादा पूरा नहीं किया. नायडू ने कहा कि केंद्र सरकार में रहने का फायदा नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि हम आंध्र के फायदे के लिए केंद्र सरकार में शामिल हुए थे. लेकिन आंध्र को फायदा नहीं मिल रहा है.

टीडीपी के दो केंद्रीय मंत्रियों अशोक गजपति राजू और वाई.एस. चौधरी ने दिल्ली में 7 लोक कल्याण मार्ग जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात के बाद उन्हें इस्तीफ़ा सौंप दिया हैं.

गजपति राजू केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री और वाई.एस. चौधरी विज्ञान प्रोद्यौगिकी राज्य मंत्री थे.

इससे पहले नायडू ने कहा कि हम यह मुद्दा बजट के दिन से ही उठा रहे हैं लेकिन हमें कोई जवाब नहीं मिला. तेलगू देशम पार्टी आंध्र प्रदेश को विशेष दर्ज़ा देने की मांग कर रही है. तेलगू देशम के लोकसभा में 16 सांसद हैं.

चंद्रबाबू ने आगे कहा, ‘हम पिछले चार सालों से धैर्य बनाए हुए थे. इस बीच केंद्र सरकार को समझाने की कोशिश भी की. लेकिन केंद्र सरकार सुनने के मूड में नहीं है. एक जिम्मेदार राजनेता होने के नाते मैंने अपने फैसले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अवगत कराने की कोशिश की थी, लेकिन वह उपलब्ध नहीं थे.’

नायडू की शिकायत है कि पहले बीजेपी नेतृत्व ने प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा किया था लेकिन फिर उनका कहना था कि सभी राज्यों से ये दर्जा वापस ले लिया जाएगा.

इस बीच वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को आंध्र के प्रतिनिधियों से मुलाक़ात की थी और ऐसा बताया गया कि उन्होंने ये साफ़ कर दिया कि स्पेशल पैकेज दिया जा सकता है लेकिन प्रदेश के विशेष राज्य का दर्जा मिलने का सवाल नहीं है.

शेयर करें
  • 2
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here