असमः’ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2018’ के मौके पर क्या बोले पीएम मोदी

असम में शनिवार से शुरू हुए दो दिवसीय वैश्विक निवेशक सम्मेलन का उद्घाटन करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि असम प्रगति के पथ पर आगे बढ़ रहा है. असम ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ के मामले में उत्तर पूर्वी राज्य में पहले स्थान पर है और हमारी सरकार इस रैंकिंग में आने वाले समय में और सुधार करेगी.

मोदी ने आगे कहा ‘कुछ बदले या न बदले लेकिन लोगों की सोच बदल गई है. अब हम हताशा की जगह आशा और हौसले की बात करते हैं. देश में दोगुनी रफ्तार से विकास हो रहा है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘मेरा मानना है कि इंफाल से लेकर गुवाहाटी तक और कोलकाता से पटना तक पूर्वी भारत के विकास का नया केंद्र बनना चाहिए. आसियान-इंडिया भागीदारी भले ही 25 साल पुरानी हो, लेकिन आसियान के सदस्य देशों के साथ हमारे संबंध हजारों साल पुराने हैं.’

पीएम ने कहा, ‘ये एडवांटेज असम भारत-आसियान के लिए एक्सप्रेसवे है.’

मोदी ने कहा, ‘भारत की ग्रोथ स्टोरी में और गति तभी आएगी जब देश के पूर्वोत्तर में रहने वाले लोगों का भी संतुलित विकास हो. पिछले साढ़े तीन वर्ष में केंद्र सरकार की तरफ से और पिछले डेढ़ वर्ष में, असम सरकार की तरफ से किए गए प्रयासों का परिणाम दिखाई देने लगा है. आज जितने व्यापक पैमाने पर ये आयोजन हो रहा है, वो कुछ वर्ष पहले तक कोई सोच भी नहीं सकता था.’

प्रधानमंत्री ने कहा ‘हम राज्य में 1300 करोड़ की लागत से ‘नेशनल बम्बू मिशन’ को पुनर्गठन कर कर रहे हैं, जिससे उत्तर पूर्वी राज्यों के लोगों को सीधा फायदा होगा तो वहीं मुख्य तौर पर किसानों को इससे फायदा मिलना तय है.’

गुवाहाटी के सरुसुजाई स्टेडियम परिसर में शुरू हुए ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के आज पहले दिन 160 कंपनियों के साथ 64,386 करोड़ रुपये के निवेश को लेकर 176 समझौता पत्रों पर हस्ताक्षर किए गए हैं. प्रथम ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट, 2018 का उद्देश्य असम के रूप में भारत के दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के एक्सप्रेसवे का प्रोजेक्ट करना है.

असम के ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट में हिस्सा लेने के लिए विदेशी मेहमानों में भूटान के पीएम शेरिंग तोब्गे के अलावा बांग्लादेश के उद्योग मंत्री अमीर हुसैन अमु, म्यांमार के व्यापार मंत्री थान मिंट, लाओ के सूचना संस्कृति और टूरिज्म मंत्री ओनेथॉन्ग खोपन शामिल हैं. वहीं, अमेरिका, वियतनाम, यूएई, नीदरलैंड, नेपाल, कोरिया, जापान, इजरायल, इंडोनेशिया, जर्मनी, चेक रिपब्लिक और कनाडा जैसे देशों के राजनयिक और कारोबारी भी इसमें हिस्सा ले रहे हैं.

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा, ‘अभी तक 4,500 प्रतिनिधियों ने इसमें भाग लेने के लिए पंजीकरण कराया है. इसमें 16 देशों के प्रतिनिधि शामिल हैं.समिट में आसियान और दक्षिण एशिया की उभरती अर्थव्यवस्थाओं को दी जाने वाली विशेष सेवाओं के बारे में भी बताया जाएगा.’

 समिट में शिरकत कर रहे स्पाइस जेट के सीएमडी अजय सिंह ने कहा, ‘भारत के विकास के लिए यह जरूरी है कि पूर्वोत्तर क्षेत्र का विकास हो. बिना कनेक्टिविटी के नॉर्थ ईस्ट का विकास नहीं हो सकता. उड़ान (UDAN) प्रोजेक्ट के तहत स्पाइस जेट गुवाहाटी, सिलचर और डिब्रूगढ़ के शहरों को देश के दूसरे हिस्सों से जोड़ता है. जल्द ही हम जोरहाट और लखीमपुर से भी कनेक्ट हो जाएंगे.’
शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here